Site icon Blue India Live

Indian Railway का एक नया युग: जल्द ही अपना पहला Cargo-Passenger Coach पेश करेगा

cargo passenger coach

पंजाब के कपूरथला स्थित रेल कोच फैक्ट्री (RCF) ने Belly Freight Concept से प्रेरित होकर Indian Railway के लिए एक डबल डेकर कोच डिजाइन किया है।

अगस्त में लॉन्च होने वाले इस Innovative Coach में Executive Upper Deck पर 46 सीटें होंगी, जिसमें एक पेंट्री और शौचालय भी होंगे। निचले डेक में छह टन तक माल रखने की क्षमता होगी।

कोविड महामारी के दौरान, जब यात्रियों की आवाजाही कम थी और माल परिवहन Indian Railway के लिए राजस्व का प्राथमिक स्रोत बन गया था, तब इस डबल-डेकर कोच का Idea विकसित किया था

कई डिज़ाइनों पर विचार करने के बाद, Indian Railway Board ने अंतिम डिज़ाइन को मंजूरी दे दी। कीमत विवरण को अभी अंतिम रूप नहीं दिया गया है, लेकिन प्रत्येक कोच की लागत 2.70 से 3 करोड़ रुपये के बीच होने की उम्मीद है।

यह भी पड़े :- Haryana के Nuh हिंसा (Violence) के पीछे इस इंसान का मास्टर माइंड था

Cargo परिवहन के लिए निचले डेक का उपयोग करेंगे, जबकि यात्री ऊपरी डेक डेक पर यात्रा करेंगे, हवाई जहाज में उपयोग की जाने वाली बेली फ्रेट अवधारणा के समान, इस कोच के डिजाइन में शामिल किया गया है। यह दृष्टिकोण स्थान के बेहतर उपयोग की अनुमति देता है, क्योंकि कुछ एयरलाइंस occupancy दर को अधिकतम करने के लिए यात्री यातायात के साथ कार्गो को जोड़ती हैं।

The New Indian Express की रिपोर्ट के अनुसार, RCF, कपूरथला के महाप्रबंधक Ashok Agrawal ने साझा किया कि वे देश में पहले कार्गो लाइनर के निर्माण की प्रक्रिया में हैं, जिसके अगस्त में लॉन्च होने की संभावना है।

Proto Type Coach के अगले महीने तक तैयार होने की उम्मीद है और इसे Indian Railway मंत्रालय के तहत एक अनुसंधान और विकास संगठन, अनुसंधान डिजाइन और मानक संगठन (RDSO) को परीक्षण के लिए भेजा जाएगा।

यदि परीक्षण सफल रहा, तो Cargo लाइनर की अवधारणा के आधार पर अधिक Coaches का निर्माण और परिचालन किया जाएगा।

एक बार जब ये कोच परीक्षण चरण से गुजर जाएंगे, तो Indian Railway 20 कोच वाली 2 Trains बनाने की योजना बना रहा है। कार्गो लाइनर की अवधारणा पर आधारित ये Trains विभिन्न वस्तुओं का परिवहन करते हुए Specified Points के बीच एक निश्चित मार्ग पर नियमित रूप से चलेंगी।

Financial Year 2022-23 में, Indian Railway ने माल ढुलाई Revenue में उल्लेखनीय वृद्धि का अनुभव किया, जो 1.62 लाख करोड़ रुपये तक पहुंच गया, जो पिछले वर्ष की तुलना में 15% की वृद्धि है। बताया गया है कि RCF, कपूरथला चालू financial year के दौरान वंदे भारत ट्रेन के 16 कोचों का भी निर्माण करेगा।

Indian Railway का बेली कार्गो Concept क्या है

Belly Cargo अवधारणा एक विमान के निचले डेक में माल के परिवहन को संदर्भित (Referenced) करती है, जिसका उपयोग आमतौर पर यात्रियों को ले जाने के लिए किया जाता है। यह उपलब्ध स्थान के उपयोग को अधिकतम करता है और यात्री सामान के साथ-साथ कार्गो के कुशल परिवहन की अनुमति देता है।

Belly Cargo से तात्पर्य उस माल से है जो हवाई जहाज के मुख्य डेक के नीचे या जहाज के होल्ड में संग्रहीत किया जाता है। Belly Freight के माध्यम से शिपिंग की उपयुक्तता विभिन्न कारकों पर निर्भर करती है।

शिपिंग विकल्प के रूप में Belly Freight पर विचार करते समय, माल की प्रकृति और खेप के वजन और माप को ध्यान में रखना महत्वपूर्ण है। इसके अतिरिक्त, विमान की तकनीकी पूर्व शर्ते भी एक भूमिका निभाती हैं। उदाहरण के लिए, किसी यात्री विमान के निचले डेक की ऊंचाई कार्गो टुकड़ों की अधिकतम ऊंचाई को सीमित कर सकती है।

ऊंचाई की सीमा के अलावा, ऐसे अन्य कारक भी हैं जो Belly Cargo Shipping पर Limitations लगा सकते हैं। इनमें परिवहन किए जा सकने वाले सामान के प्रकार पर प्रतिबंध, साथ ही कोई भी नियम या सुरक्षा आवश्यकताएं शामिल हो सकती हैं जिनका पालन करने की आवश्यकता है।

केवल कार्गो विमानन की तुलना में यात्री विमानन में सुरक्षा मानक और जाँच अधिक सख्त हैं। यह उन प्रकार के पदार्थों पर लागू होता है जिनकी विमान में अनुमति है।

Exit mobile version